आज देश भर में चक्का जाम करेंगे किसान, यूपी, उत्तराखंड और दिल्ली में नहीं थमेंगे पहिए

आज देश भर में चक्का जाम करेंगे किसान, यूपी, उत्तराखंड और दिल्ली में नहीं थमेंगे पहिए

कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे किसान आज शनिवार को देश भर में चक्का जाम करेंगे। चक्का जाम दोपहर 12 बजे शुरू होगा और 3 बजे एक मिनट के लिए गाड़ियों के हॉर्न बजाकर ख़त्म किया जाएगा। हांलाकि किसानों ने दिल्ली, यूपी और उत्तराखंड को इस चक्का जाम से अलग रखा है। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि ‘दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्‍का जाम नहीं होगा, लेकिन यूपी और उत्तराखंड के एक लाख किसानों को स्टैंड बाई पर रखा गया है। इन दो राज्यों के किसान अपने तहसील और जिला मुख्यालय पर जाकर अधिकारियों को कृषि कानूनों को वापस लेने और एमएसपी पर कानून की मांग को लेकर ज्ञापन देंगे। किसानों से ये कार्यक्रम शांतिपूर्ण तरीके से करने की अपील की गई है।‘

दिल्ली-एनसीआर में कड़ी सुरक्षा

दिल्ली-एनसीआर में चक्का जाम नहीं करने की घोषणा के बावजूद 26 जनवरी की हिंसा को देखते हुए पुलिस अलर्ट मोड में है। दिल्ली ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। यहां टिकरी, सिंघु और गाज़ीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। दिल्ली पुलिस ने मेट्रो के अधिकारियों को पत्र लिखकर जरूरत पड़ने पर राजीव चौक, केंद्रीय सचिवालय समेत 12 मेट्रो स्टेशन को शॉर्ट नोटिस पर बंद करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा है।

पुलिस ने दिल्ली की सीमा पर मल्टी लेयर बैरिकेडिंग की है। यहां किसानों को रोकने के लिए कंटीली तारों के अलावा कीलें लगाई गई हैं। बॉर्डर पर भारी संख्या में दिल्ली पुलिस की तैनाती की गई है।

नोएडा, गाज़ियाबाद और गुरुग्राम में भी अलर्ट

दिल्ली के अलावा नोएडा, गाज़ियाबाद और गुरुग्राम में भी पुलिस हाई अलर्ट पर है। चक्का जाम नहीं होने के बावजूद नोएडा पुलिस ने सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए हैं। भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। गाज़ियाबाद में भी सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं। यहां बड़ी संख्या में किसान ज़िलाधिकारी को ज्ञापन देने के लिए पहुंचेंगे। पुलिस ने जगह-जगह बैरिकेडिंग की है।

किसानों के चक्का जाम को देखते हुए गुरुग्राम पुलिस ने भी फोर्स को सतर्क रहने के लिए कहा है। यहां किसान बसई और बजघेड़ा फ्लाईओवर पर दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक चक्का जाम करेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा के करीब एक हज़ार किसान इस प्रदर्शन में शामिल होंगे।

बता दें तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर किसान दो महीने से भी ज्यादा वक्त से प्रदर्शन कर रहे हैं। 26 जनवरी को उनके ट्रैक्टर मार्च के दौरान दिल्ली में भारी हिंसा हुई थी। इसे देखते हुए सरकार अलर्ट मोड में है।

thenewslede