हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिले राहुल-, कहा कोई ताकत चुप नहीं करा सकती

हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिले राहुल-, कहा कोई ताकत चुप नहीं करा सकती

यूपी में हाथरस की बेटी के साथ जो हुआ, उससे समूचा देश शर्मसार है। पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की मांग ज़ोर पकड़ती जा रही है। शनिवार देर शाम कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी भी कांग्रेस सांसद केसी वेणुगोपाल, अधीर रंजन चौधरी और पीएल पुनिया के साथ पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे। भारी भीड़ के बीच दोनों नेताओं ने परिजनों से बातचीत की। इस मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने परिवार को न्याय का भरोसा दिलाया और कहा कि कोई भी ताकत हमें चुप नहीं करा सकती। यूपी सरकार चाहकर भी मनमानी नहीं कर पाएगी क्योंकि देश की बेटी को इंलाफ़ दिलाने के लिए अब पूरा देश खड़ा है। उधर, प्रियंका वाड्रा ने भी पीड़िता की मां को गले से लगा लिया और न्याय की लड़ाई में साथ देने का वादा किया। राहुल और प्रियंका ने करीब एक घंटे तक पीड़ित परिवार से बातचीत की, इस बीच भावुक परिवार ने पूरे घटनाक्रम की सिलसिलेवार तरीके से जानकारी दी। पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद प्रियंका ने यूपी सरकार के सामने दो मांगे रखीं और तीन सवाल पूछे। प्रियंका ने ट्वीट कर पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट के ज़रिए जांच कराने और हाथरस के डीएम को सस्पेंड करने और किसी बड़े पद पर तैनात नहीं करने की मांग रखी। प्रियंका ने सवाल पूछे की परिवार जानना चाहता है कि

  1. बेटी का शव बिना पूछे पेट्रोल से क्यों जलाया?
  2. परिवार को बार-बार क्यों गुमराह किया और
  3. परिवार को क्यों धमकाया जा रहा है?

प्रियंका ने कहा कि पीड़िता का परिवार इन सवालों का जवाब जानना चाहता है, और योगी सरकार को इनके जवाब देने ही होंगे।

राहुल-प्रियंका पर हमलावर बीजेपी

उधर, राहुल-प्रियंका के दौरे को लेकर बीजेपी की ओर से जमकर बयानबाज़ी हुई। स्मृति ईरानी ने राहुल के हाथरस दौरे को पॉलिटिकल स्टंट करार दिया, तो वहीं योगी सरकार के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि राहुल-प्रियंका ने हाथरस को टूरिस्ट स्पॉट बना दिया।

सीबीआई करेगी मामले की जांच

हम आपको बता दें कि हाथरस में हुए कथित गैंगरेप और हत्या में विवाद के बीच यूपी सरकार ने घटना की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। हांलांकि पीड़िता के भाई ने सीबीआई जांच को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्‍होंने कहा कि परिवार ने कभी सीबीआई जांच की मांग ही नहीं की। पीड़िता के भाई ने न्‍यायिक जांच की मांग करते हुए कहा कि हमारे तमाम सवालों के जवाब के लिए सुप्रीम कोर्ट के जज की नि गरानी में मामले की निष्‍पक्ष जांच ज़रूरी है।

thenewslede