वायु सेना प्रमुख की चीन को कड़ी चेतावनी, टकराव की स्थिति में माकूल जवाब देने के लिए तैयार

वायु सेना प्रमुख की चीन को कड़ी चेतावनी, टकराव की स्थिति में माकूल जवाब देने के लिए तैयार

वायु सेना प्रमुख आकेएस भदौरिया ने चीन को कड़ी चेतावनी दी है। एलएसी पर चीनी सैनिकों की भारी मौजूदगी को स्वीकार करते हुए भदौरिया ने कहा कि चीन का भारत के साथ टकराव वैश्विक मोर्चे पर ठीक नहीं है। लेकिन अगर ऐसा होता है तो हम जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। एयर चीफ मार्शल ने चीन को ये संदेश मंगलवार को एक कार्यक्रम के दौरान दिया।

वायुसेना प्रमुख ने कहा कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर भारी संख्या में चीनी सैनिक तैनात हैं। उनके पास रडार, सतह से हवा और सतह से सतह में मार करने वाली मिसाइल मौजूद है। लेकिन हमने भी अपनी पूरी तैयारी की है।

वायु सेना चीफ ने कहा कि चीन का मकसद अपना वर्चस्व बढ़ाना है। अमेरिका के अफगानिस्तान से बाहर निकलने के बाद चीन और पाकिस्तान के रास्ते खुल गए हैं। ऐसे में चीन पाकिस्तान को अपनो मोहरा बनाकर अपनी स्थिति मज़बूत करना चाहता है।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए उन्होंने कहा कि वैश्विक मोर्चे पर अनिश्चितता की स्थिति ने चीन को अपनी शक्ति प्रदर्शन करने का मौक़ा दिया है। उन्होंने कहा कि छोटे देश और अलगाववादियों की मदद से चीन को ड्रोन जैसे कम लागत वाली तकनीक आसानी से उपलब्ध हो रहे हैं, जिससे वह प्रतिकूल प्रभाव पैदा करने में सफल हो रहा है। 

IAF चीफ ने कहा कि भारत को हर स्थिति से निपटने के लिए अपनी झमता बनाए रखना होगा।

गौरतलब है कि पिछले 6-8 महीनों से LAC पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। लद्दाख में दोनों देशों की सेना की भारी मौजूदगी है। गलवान घाटी में झड़प के बाद चीन और भारत ने तनाव कम करने की कोशिश में सैन्य स्तर की कई दौर की बातचीत हुई है। बावजूद इसके चीन LAC पर अपने सैनिकों की मौजूदगी लगातार बढ़ा रहा है।

thenewslede